बुधवार, 10 अप्रैल 2013


मुझ को बनकर याद तेरे दिल में बस जाने दे
आँखों में जो दर्द भरा है आज उसे बरस जाने दे

तू के बनकर शम्मां मुझे परवाना बन जल जाने दे
तेरी आँखों की कही को आज तू ग़ज़ल बन जाने दे

तन्हाईयों में तेरी याद को ही तेरा मंज़र बन जाने दे
तेरे एहसास को आज मेरी साँसों में घुल जाने दे

हिज्र की रात है खुद का मेरा ख्वाब बन जाने दे
चार दिन की जिंदगी है तेरी यादों में गुज़र जाने दे

काली घनी घटाओं की तरह तेरे गेसुओं को बिखर जाने दे
सदीयों का थका हूँ मैं, अपने आगोश में मुझे सो जाने दे

तेरी आँखों की मय को आज नाशाद तू जाम बन जाने दे
तेरा नज़ारा मेरी कलम से आज इक और मधुशाला बन जाने दे...

2 टिप्‍पणियां:



  1. ☆★☆★☆



    काली घनी घटाओं की तरह तेरे गेसुओं को बिखर जाने दे
    सदियों का थका हूं मैं, अपने आगोश में मुझे सो जाने दे

    वाऽऽह…!
    बहुत ख़ूब आदरणीय दिलीप जी
    सुंदर रचना !

    आते रहेंगे आगे भी आपके यहां
    :)

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार


    उत्तर देंहटाएं


  2. # एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेंट देने में असुविधा नहीं होगी -
    Login
    -Dashboard
    -settings
    -posts and comments
    -show word verification
    (NO)


    उत्तर देंहटाएं